May 10, 2018

Chittorgarh. Raj. चित्तौड़ नगर में अंजनशलाका प्रतिष्ठा संपन्न 


सुप्रसिद्ध आचार्य श्री हरिभद्रसूरि की जन्म स्थली, आचार्य जिनवल्लभसूरि की कर्मस्थली, दादा गुरुदेव श्री जिनदत्तसूरि की आचार्य पद स्थली राजस्थान की ऐतिहासिक स्थली चितौड नगर में श्री नाकोडा पार्श्वनाथ जिन मंदिर की अंजनशलाका प्रतिष्ठा पूज्य गुरुदेव गच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. पूज्य बाल मुनि श्री मलयप्रभसागरजी म. एवं पूजनीया बहिन म. डॉ. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म.सा. पू साध्वी श्री प्रज्ञांजनाश्रीजी म. पू. साध्वी श्री नीतिप्रज्ञाश्रीजी म. आदि ठाणा की पावन निश्रा में प्रथम ज्येष्ठ वदि 8 रविवार, ता. 6 मई 2018 को अत्यन्त आनंद व हर्षोल्लास के साथ संपन्न हुई। 
प्रतिष्ठा महोत्सव हेतु उग्र विहार कर पूज्यश्री ने ता. 3 मई को चित्तौड नगर में प्रवेश किया। प्रवेश के पश्चात् प्रवचन फरमाते हुए पूजनीया बहिन म. डॉ. विद्युत्प्रभाश्रीजी म. ने चित्तौड नगर के इतिहास का उल्लेख करते हुए यहाँ के निवासियों को गौरवशाली बताया। 
ता. 5 को ऐतिहासिक वरघोडे का आयोजन हुआ। स्थानीय सांसद श्री सी. पी. जोशी, स्थानीय विधायक श्री आयाजी आदि सम्मिलित हुए। बाहर से बड़ी संख्या में श्रावक संघों का पदार्पण हुआ।

 
ता. ८ को नाकोडा पार्श्वनाथजी मुनिसुव्रतस्वामीजी, केशरियानाथजी, गौतमस्वामी, दादा जिनदत्तसूरि, मणिधारी जिनचन्द्रसूरि, अकबर प्रतिबोधक जिनचन्द्रसूरि, गणनायक सुखसागरजी, आचार्य जिनकान्तिसागरसूरि, अंबिका देवी, पद्मावती देवी सरस्वती देवी आदि प्रतिमाओं की प्रतिष्ठा संपन्न हुई। 
ध्वजा, मूलनायक परमात्मा की रत्नमयी प्रतिमा भराने व विराजमान केशरियानाथ प्रभु को विराजमान आदि लाभ मूल नांदसी निवासी श्री जीवराजजी सौ. सुमित्रादेवी खटोड परिवार ने लिया। 
श्री मुनिसुव्रतस्वामीजी को विराजमान का लाभ श्री शांतिलालजी कांतिलालजी राठौड सादडी वालों ने लिया। कलश का लाभ श्री कन्हैयालालजी महात्मा परिवार ने लिया। दादावाडी में मूलनायक मणिधारी जिनचन्द्रसूरि को विराजमान का लाभ संघवी श्री दलीचंदजी मिश्रीमलजी मावाजी मरडिया परिवार चितलवाना वालों ने लिया। प्रतिष्ठा के समय का हर्षोल्लास अद्भुत था। विधिविधान अरविन्द चौरडिया इन्दौर वालों ने करवाया। इस प्रतिष्ठा महोत्सव में श्री हरिभद्रसूरि स्मृति ट्रस्ट के समस्त ट्रस्ट मंडल का, विशेष रूप से श्री जीवराजी खटोड का पुरूषार्थ अत्यन्त अनुमोदनीय रहा।

Mar 12, 2018

चातुर्मास chaturmas

पूज्य गुरुदेव गच्छाधिपति आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरिजी महाराज साहब का चातुर्मास इंदौर में होगा।
पूज्य उपाध्याय प्रवर श्री मनोज्ञसागरजी महाराज साहब का सूरत में चातुर्मास होगा।

Mar 9, 2018

Bijainagar बिजयनगर में आयोजित अंजनशलाका प्रतिष्ठा महोत्सव के सुनहरे दृश्य

निश्रा पूज्य गच्छाधिपति आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरिजी महाराज



Mar 7, 2018

Bijainagar Pratishtha बिजयनगर प्रतिष्ठा


दिनाकं 07-03-18 को बिजयनगर में खरतरगच्छाधिपति पूज्य आचार्यश्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म. सा. आदि सभी साधु साध्वी जी का मंगल प्रवेश गाजें बाजे के साथ हुआ। 


राजदरबार सिटी में होने जा रही भव्यातिभव्य अंजनशलाका नाकोड़ा पार्श्वनाथ भैरव मंदिर की प्रतिष्ठा के कार्यक्रम की शुरुआत के साथ पूज्य गुरुदेवश्री के द्वारा विभिन्न प्रकार के विधि विधान ठाठ बाठ से सम्पन्न हुए। 


गुरुदेव श्री के मंगल प्रवेश के साथ ही बिजयनगर संभवनाथ जैन मंदिर से वरघोड़ा प्रारम्भ हुआ प्रतिमाजी भराने के लाभार्थी परिवार बग्गी में प्रतिमाजी को ले कर के विराजमान हुए नाचते गाते हुए वरघोड़ा राजदरबार सिटी में पहुँचा।

Jan 13, 2018

केयुप केलेण्डर-2018 का विमोचन

अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद् केयुप द्वारा प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी भव्य केलेण्डर का प्रकाशन किया गया है। इस केलेण्डर की थीम खरतरगच्छ के एक हजार वर्ष पूर्णाहुति के उपलक्ष्य में दादा गुरुदेव के चित्रों वाली ली गई है।

इस केलेण्डर का विमोचन 29 दिसम्बर 2017 को नाकोडाजी तीर्थ में संघ माला के अवसर पर संघपति देसाई परिवार एवं केयुप सदस्यों द्वारा किया गया।

सिवाना में खरतरगच्छ जैन भवन का उद्घाटन

पूज्य गुरुदेव प्रज्ञापुरूष आचार्य भगवंत श्री जिनकान्तिसागरसूरीश्वरजी म.सा. के शिष्य पूज्य गुरुदेव वर्तमान गच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. पूज्य मुनि श्री मनितप्रभसागरजी म. पू. मुनि श्री मलयप्रभसागरजी म. ठाणा 3 एवं पूजनीया आगम ज्योति प्रवर्तिनी श्री प्रमोदश्रीजी म.सा. की शिष्या पूजनीया माताजी म. श्री रतनमालाश्रीजी म. पूज्य बहिन म. डा. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 8 का ता. 3 जनवरी 2018 को सिवाना नगर में भव्यातिभव्य नगर प्रवेश हुआ।
शोभायात्रा का प्रारंभ उम्मेदपुरा मंदिर से हुआ। चैमुखजी मंदिर, गोडीजी मंदिर, शंखेश्वर पाश्र्वनाथ मंदिर व दादावाडी, ललवानी दादावाडी दर्शन करते हुए तथा लाभार्थी चैपडा व ललवानी परिवार के यहां पगले करते हुए खरतरगच्छ जैन भवन पधारे। जहां पूज्यश्री की निश्रा में नवनिर्मित इस भवन का उद्घाटन किया गया। उद्घाटन का लाभ श्री सुमेरमलजी प्रकाशजी चैपडा परिवार सिवाना-कोट्टूर ने लिया।
न्याति नोहरा में बहुमान व प्रवचन का आयोजन किया गया।
पूज्यश्री ने फरमाया- हमारा जीवन संज्ञाप्रधान है, इसे आज्ञाप्रधान बनाना है। जीवन परमात्मा की आज्ञा के अनुसार हो, ऐसा हमारे हृदय में निश्चय होना चाहिये।
इस अवसर पर लाभार्थी परिवारों का बहुमान किया गया। संघवी वंसराजजी भंसाली, मोतीलालजी ललवानी आदि ने अपने उद्गार व्यक्त किये।

इस भवन के निर्माण में संघ के अध्यक्ष श्री मोतीलालजी ललवानी के पुरूषार्थ की अनुमोदना की गई। संचालन मुकेश चैपडा ने किया।

पूज्यश्री का अपनी जन्मभूमि मोकलसर में प्रवेश

पूज्य गुरुदेव प्रज्ञापुरूष आचार्य भगवंत श्री जिनकान्तिसागरसूरीश्वरजी म.सा. के शिष्य पूज्य गुरुदेव वर्तमान गच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. पूज्य मुनि श्री मनितप्रभसागरजी म. पू. मुनि श्री मलयप्रभसागरजी म. ठाणा 3 एवं पूजनीया आगम ज्योति प्रवर्तिनी श्री प्रमोदश्रीजी म.सा. की शिष्या पूजनीया माताजी म. श्री रतनमालाश्रीजी म. पूज्य बहिन म. डा. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 8 का ता. 4 जनवरी 2018 को मोकलसर नगर में भव्यातिभव्य नगर प्रवेश हुआ।
आचार्य पद ग्रहण करने के पश्चात् प्रथम बार पूज्यश्री का अपनी जन्मभूमि में पदार्पण हुआ। मोकलसर गांव के प्रवासी बडी संख्या में पधारे।
दादावाडी से भव्य शोभायात्रा का आयोजन हुआ। दो वर्षों तक भोजनशाला के लाभार्थी श्री मूलचंदजी हुण्डिया परिवार द्वारा उद्घाटन किया गया।
महावीर भवन में अभिनंदन समारोह का आयोजन किया गया। इस अवसर पर प्रवचन फरमाते हुए पूज्यश्री ने अपनी माताजी, गुरुदेवश्री एवं जन्मभूमि का उपकार माना।
पूज्य मुनि श्री मनितप्रभसागरजी म. ने विरति धर्म की महिमा की। पूजनीया बहिन म. डा. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. ने पूज्यश्री के जीवन को पूर्ण सफल बताते हुए जीवन को सफल बनाना या जीवन में सफलता पाना, इन दो वाक्यों की व्याख्या की। पू. साध्वी डा. श्री नीलांजनाश्रीजी म. ने गुरु गुण गीतिका प्रस्तुत की।
पूज्यश्री को कामली वहोराने का लाभ श्री मूलचंदजी हुण्डिया परिवार ने तथा गुरु पूजन का लाभ पूज्यश्री के सांसारिक ननिहाल पक्ष श्रीमती जडावीदेवी कपूरचंदजी पालरेचा परिवार ने लिया।
इस अवसर पर संघवी तेजराजजी गुलेच्छा, भंवरलालजी गुलेच्छा, रमेश लूंकड, अशोक पालरेचा, सौ. रेणु पालरेचा आदि ने अपने भाव प्रस्तुत किये। संचालन संतोकचंदजी श्रीश्रीमाल ने किया।

बाद में पूज्यश्री के सांसारिक परिवार श्री बाबुलालजी रमेशकुमारजी लूंकड एवं ननिहाल परिवार श्रीमती जडावी देवी कपूरचंदजी पालरेचा के घर संघ सहित पगले किये गये। श्री मूलचंदजी हुण्डिया परिवार में भी पगले किये गये।

1700 यात्रियों का सिणधरी से नाकोडाजी संघ का भव्य आयोजन



पूज्य गुरुदेव प्रज्ञापुरूष आचार्य भगवंत श्री जिनकान्तिसागरसूरीश्वरजी म.सा. के शिष्य पूज्य गुरुदेव वर्तमान गच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. पूज्य मुनि श्री मनितप्रभसागरजी म. पू. मुनि श्री समयप्रभसागरजी म. पू. मुनि श्री विरक्तप्रभसागरजी म. पू. मुनि श्री श्रेयांसप्रभसागरजी म. पू. मुनि श्री मलयप्रभसागरजी म. ठाणा 6 एवं पूजनीया आगम ज्योति प्रवर्तिनी श्री प्रमोदश्रीजी म.सा. की शिष्या पूजनीया माताजी म. श्री रतनमालाश्रीजी म. पूज्य बहिन म. डा. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा, पू. महत्तरा पद विभूषिता समुदायाध्यक्षा श्री चंपाश्रीजी म. की शिष्या पू. साध्वी श्री हेमरत्नाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 एवं पू. साध्वी श्री मुक्तांजनाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 के पावन सानिध्य में सिणधरी नगर से श्री नाकोडाजी तीर्थ छह री पालित पद यात्रा संघ का भव्य आयोजन संपन्न हुआ।

1700 यात्रियों के इस संघ का भव्य आयोजन सिणधरी निवासी श्री भीकचंदजी धनराजजी देसाई परिवार द्वारा किया गया।
ता. 23 दिसम्बर को शुभ मुहूत्र्त में संघ का प्रयाण हुआ। ता. 28 को नाकोडाजी तीर्थ में भव्य प्रवेश हुआ। प्रवेश समारोह में पूज्य आचार्य श्री विजयकीर्तिचन्द्रसूरिजी म. पूज्य गच्छाधिपति आचार्यश्री प्रद्युम्नविमलसूरिजी म. यतिवर श्री वसंतविजयजी म. आदि का पदार्पण हुआ।

ता. 29 दिसम्बर को माला विधान हुआ। चतुर्विध संघ की साक्षी से संघपति पद प्रदान किया गया। 1700 यात्रियों का ऐसा विशाल छह री पालित संघ पहली बार नाकोडाजी आया है।

Dec 14, 2017

साधु साध्वी समाचार

0 पूज्य उपाध्याय प्रवर श्री मनोज्ञसागरजी म. आदि ठाणा 2 बाडमेर में बिराजमान है। उनकी पावन निश्रा में चैहटन से प्रथम बार ब्रह्मसर जैसलमेर लौद्रवाजी अमरसागर तीर्थ हेतु छह री पालित संघ यात्रा का भव्य आयोजन होने जा रहा है। यह संघ 21 दिसम्बर 2017 को चैहटन से प्रस्थान करेगा। माला महोत्सव 9 जनवरी 2018 को ब्रह्मसर में होगा।
0 पूज्य मुनि श्री मुक्तिप्रभसागरजी म. मनीषप्रभसागरजी म. ठाणा 2 पालीताना पधार गये हैं। जहां उनकी निश्रा में पू. साध्वी श्री प्रियश्रद्धांजनाश्रीजी म. की प्रेरणा से नवाणुं यात्रा का भव्य आयोजन होने जा रहा है।
0 पूज्य मुनि श्री कल्पज्ञसागरजी म. चैहटन से विहार कर पालीताना पधार रहे हैं।
0 पूजनीया प्रवर्तिनी श्री शशिप्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा विक्रमपुर की प्रतिष्ठा की संपन्नता के पश्चात् बीकानेर पधारे। उन्होंने बीकानेर से ता. 2 दिसम्बर को विहार कर उदयरामसर होते हुए नागोर की ओर विहार किया है।
0 पूजनीया गणिनी प्रवरा श्री सुलोचनाश्रीजी म. सुलक्षणाश्रीजी म. आदि ठाणा कुछ दिनों की चेन्नई में स्थिरता के पश्चात् पाश्र्वमणि तीर्थ पेद्दतुम्बलम की ओर विहार करेंगे।
0 पूजनीया गणिनी प्रवरा श्री सूर्यप्रभाश्रीजी म. पूर्णप्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा विहार कर 5 दिसम्बर को अमलनेर पधारे हैं। जलगांव में आपकी निश्रा में आपके 53वें दीक्षा दिवस के उपलक्ष्य में दादावाडी में पाश्र्व पद्मावती महापूजन का भव्य आयोजन ता. 1 दिसम्बर को किया गया। जिसका लाभ लूंकड परिवार के श्रीमती पद्माबाई परिवार ने लिया।
0 पूजनीया माताजी म. श्री रतनमालाश्रीजी म. पू. बहिन म. डा. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. पू. डा. साध्वी श्री नीलांजनाश्रीजी म. आदि ठाणा विहार करते हुए नीमच, निम्बाहेडा, भीलवाडा होते हुए बिजयनगर पधारे। जहां उनकी पावन निश्रा में ता. 26 नवम्बर को जाजम के अभूतपूर्व चढावे संपन्न हुए। वहां से विहार कर ता. 30 नवम्बर को ब्यावर पधारे। वहां से जोधपुर होते हुए सिणधरी पधारेंगे।
0 पू. साध्वी श्री सम्यग्दर्शनाश्रीजी म. आदि ठाणा 4 मुंबई से विहार कर दहाणुं पधारे हैं। वहां से वे सूरत, बडौदा होते हुए अहमदाबाद की ओर विहार कर रहे हैं।
0 पूजनीया साध्वी श्री लक्ष्यपूर्णाश्रीजी म. आदि ठाणा गाजियाबाद से विहार कर जयपुर होते हुए ब्यावर पधारे। अभी ब्यावर बिराजमान है।
0 पूजनीया साध्वी श्री कल्पलताश्रीजी म. आदि ठाणा नागोर से विहार कर बीकानेर पधारे। यहां से ता. 3 दिसम्बर को फलोदी की ओर विहार किया है। वे फलोदी होते हुए चैहटन से ब्रह्मसर के संघ में सम्मिलित होंगे।
0 पूजनीया साध्वी डा. शासनप्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 पालीताना पधार गये हैं। श्री जिनहरि विहार में बिराजमान है। वहां 15 दिनों की स्थिरता के पश्चात् राजस्थान की ओर विहार करेंगे।
0 पू. साध्वी श्री प्रियस्मिताश्रीजी म. आदि ठाणा 6 कानपुर से विहार कर ता. 5 दिसम्बर को बनारस पधारे हैं।
0 पू. साध्वी श्री प्रियरंजनाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 विहार कर चेन्नई पधार गये हैं।
0 पू. साध्वी श्री विरागज्योतिश्रीजी म. विश्वज्योतिश्रीजी म. आदि ठाणा 3 खापर से विहार कर बडौदा पधार गये हैं। कुछ दिनों की स्थिरता के पश्चात् पालीताना की ओर विहार करेंगे।
0 पू. साध्वी श्री संघमित्राश्रीजी म. आदि ठाणा, पू. साध्वी श्री दर्शनप्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 नलखेडा से विहार कर रतलाम प्रतिष्ठा महोत्सव में पधारे हैं।
0 पू. साध्वी श्री वसुंधराश्रीजी म. आदि ठाणा 3 चिकित्सा हेतु दुर्ग में बिराजमान है।
0 पू साध्वी श्री मधुरिमाश्रीजी म. आदि ठाणा 4 बडौदा से विहार कर अहमदाबाद पधार गये हैं।
0 पूजनीया साध्वी प्रियश्रद्धांजनाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 पालीताना पधार गये हैं। उनकी प्रेरणा से नवाणुं यात्रा का भव्य आयोजन ता. 3 दिसम्बर से प्रारंभ हुआ है।
0 पू. साध्वी श्री प्रियसौम्यांजनाश्रीजी म. आदि ठाणा 4 पालीताना पधार गये हैं। नवाणुं यात्रा में आपकी सानिध्यता रहेगी।
0 पू. साध्वी श्री प्रियस्वर्णांजनाश्रीजी म. आदि ठाणा 3 बीकानेर उदयरामसर प्रतिष्ठा के पश्चात् ता. 3 दिसम्बर की शाम को नागोर की ओर विहार किया है। वे नागोर से पालीताना की ओर विहार करेंगे।

0 पू. साध्वी श्री प्रियंवदाश्रीजी म. प्रशमिता श्रीजी म. आदि ठाणा जैसलमेर चातुर्मास के पश्चात् विहार कर बाडमेर पधार गये हैं। वे चैहटन से ब्रह्मसर तीर्थ छह री पालित संघ में सम्मिलित होंगे।