Posts

Showing posts from September, 2016

Durg पूज्यआचार्यश्री के दर्शनार्थ पधारे श्री मोतीलालजी वोरा

Image
दुर्ग नगर में पूज्य गुरुदेव खरतरगच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. के दर्शनार्थ बाहर से पधारने वाले संघों व श्रावकों का तांता लगा हुआ है। विशेष रूप से मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व राज्यपाल व वर्तमान में कांग्रेस के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्री मोतीलालजी वोरा पूज्यश्री के दर्शनार्थ पधारे। उनके साथ उनके सुपुत्र विधायक श्री अरूणजी वोरा उपस्थित थे। श्री वोराजी ने पूज्यश्री से वर्तमान स्थितियों पर वार्तालाप किया। पूज्यश्री ने वासक्षेप डालकर आशीर्वाद प्रदान किया।

Udaipur उदयपुर के सूरजपोल दादावाडी में चातुर्मास का ठाट

Image
पूज्य गुरुदेव आचार्य भगवन्त प्रज्ञापुरुष श्री जिनकान्तिकासागरसूरीश्वरजी मसा. के शिष्य-प्रशिष्य एवं खरतरगच्छाधिपति आचार्य भगवन्त श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. के शिष्य पूज्य मुनिराज श्री मुक्तिसागरजी म.सा. एवं मुनिराज श्री मनीषप्रभसागरजी म.सा. की पावन निश्रा में उदयपुर स्थित श्री जिनकुशलसूरि आराधना भवन, श्री जिनदत्तसूरि दादावाड़ी में चातुर्मास महोत्सव का जबरदस्त ठाट लगा है। इसी क्रम में दिनांक 29-8-2016 से 5 सितम्बर तक पर्युषण पर्व की आराधना उल्लास पूर्वक सम्पन्न हुई जिसमें कल्पसूत्र घर ले जाना एवं बोहराने का लाभ श्रीमती कमलाबेन - दलपतसिंहजी, गोरधनसिंहजी दोशी परिवार द्वारा लिया गया।

KHARTARGACHCHH YUVA PARISHAD ADHIVESHAN 2

Image
दो दिवसीय अ.भा.खरतरगच्छ युवा परिषद, राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए आज दिनाक 25 सितम्बर 2016 को आचार्यश्री जिनमणिप्रभसूरीजी म.सा.  ने सदस्यों को व्यक्तिगत रूप से कुछ नियमों का पालन करने का संकल्प लेने के लिए प्रेरित करते हुए आचार्यश्री ने कहा कि सभी युवा सदस्य गुरूवंदन की विधि का पालन पूरी श्रद्धा के साथ करें। साधु-साध्वियों के चरण स्पर्श, उनके विहार के दौरान सामने आकर न करे, दूर से ही श्रद्धाभाव से प्रणाम करें।  आचार्यश्री ने युवाओं को रात्रि के समय भोजन न करने का संकल्प  लेने के साथ तथा रात्रि-भोज जैसे आयोजनों में शामिल न होने  का भी निर्देश दिया। दुर्ग में आयोजित इस अ.भा.ख.यु.परिषद के प्रथम राष्ट्रीय  सम्मेलन में युवाओं के उल्लास और उत्साह पर आचार्यश्री ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए सम्मेलन आयोजन करने वाली चातुर्मास आयोजन समिति और अ.भा.छ.ग.युवा परिषद, दुर्ग इकाई के कार्यो की अनुमोदना भी की। आचार्यश्री ने सभी युवाओं को सामायिकी, प्रतिक्रमण, साधना आदि सीखने एवं सिखाने के लिए संकल्पित होने का निर्देश भी दिया।

KHARTARGACHCHH YUVA PARISHAD ADHIVESHAN

Image
दो दिवसीय अ.भा.खरतरगच्छ युवा परिषद, राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए आज दिनाक 25 सितम्बर 2016 को आचार्यश्री जिनमणिप्रभसूरीजी म.सा. ने युवाओं को कहा कि खरतरगच्छ युवा परिषद से जुड़े हर सदस्य को जीवन के लिए और धर्म पालन के लिये संकल्प लेना चाहिए।  आचार्यश्री ने कहा कि जीवन में हृदय की शुद्धता के साथ श्रद्धा और दूसरों के प्रति अच्छे विचारों को ग्रहण करें और उनको कार्य रूप में परिवर्तित भी करें। शिक्षा के क्षेत्र में मानवसेवा के क्षेत्र में सभी युवा सदस्य सक्रियता से जुड़े और समाजसेवी कार्योें को मूर्तरूप देकर दूसरों को प्रेरणा दें।  आचार्यश्री ने युवा समुदाय को धर्म क्षेत्र में प्राचीन मंदिरों और उपाश्रयगृहों के जीर्णोद्धार के लिए सहयोग के साथ-साथ नए मंदिरों और उपाश्रय गृहों की स्थापना एवं निर्माण के लिए भी तत्परता से सहयोग से जुड़ने को कहा।

KHARTARGACHCHH YUVA PARISHAD खरा रहना ही खरतरगच्छ की पहचान है-आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरि

Image
दुर्ग ! ‘‘सारे युवा एकजुट होकर एक-दूसरे से सहयोग करते हुए धर्म के क्षेत्र में काम करें यही अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद का उद्देश्य है। किसी धर्म या सम्प्रदाय का विरोध न करते हुए अपना विकास ही खरतरगच्छ युवा परिषद का एजेन्डा है। खरतरगच्छ में सदस्यों की संख्या कम हो चलेगा किन्तु सदस्यों में गच्छ के प्रति समर्पण और अनुशासन जरूरी है। सदस्यों का भाषा, वाणी, आचरण और कार्यशैली में खरा रहना ही खरतरगच्छ की पहचान है।’’ उक्त विचार आज अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में सभा को सम्बोधित करते हुए आचार्यश्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी ने कहे।               आचार्यश्री ने युवाओं को सफलता के लिए डिसीप्लीन (अनुशासन), डायरेक्शन (निर्देशन), सही उद्देश्य और लक्ष्य पाने के लिए क्रियाशीलता तथा डेयर (साहस) का 3-डी सूत्र दिया।

Palitana JinHari Vihar पालीताणा में क्षमापना पर्व मनाया गया

Image
पालीताणा स्थित जिन हरि विहार संस्था में पर्युषण महापर्व में खरतरगच्छाधिपति आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरीजी म. के शिष्य पूज्य मुनि श्री मयंकप्रभसागरजी महाराज आदि ठाणा के सानिध्य में पर्वाधिराज पर्युषण महापर्व भक्ति भावना एवं तपस्या के साथ मनाए गए। आठ दिन तक चलने वाली आराधना में प्रात: देवदर्शन,पूजा,प्रवचन,दोपहर में भगवान की पूजा,सांयकालीन प्रतिक्रमण,रात्रीकालीन भक्ति संध्या आदि में श्रावक-श्राविकाओं का हुजूम उमड़ पड़ता था। महावीर जन्म-वाचन में भी श्रावक-श्राविकाओं ने उत्साह से भाग लिया। अन्तिम दिन में चैत्य परिपाटी का आयोजन किया गया।

जिन हरि विहार समिति के मंत्री बाबुलाल लुणिया ने बताया कि सातवें दिन विविध तपस्वियों का अभिनंदन किया गया। आठों दिन प्रवचन में अखिल भारत के विविध नगरों से पधारे सभी आराधकों ने पर्युषण महापर्व को सहज अनुशासन के साथ बधाया।

Udaipur उदयपुर में खरतर दिवस मनाया

Image
   दिनांक 14 अगस्त 2016 को खरतर दिवस के उपलक्ष में उदयपुर में  विराजित आयड तीर्थ में आचार्य श्री विजयअभयसेनसूरिजी म., थोब की वाड़ी संघ से उपाध्याय श्री नरेन्द्रविजयजी म.सा., अंचलगच्छ संघ से मुनिराज श्री तीर्थरत्नसागरजी म., हिरणमगरी संघ से साध्वी श्री संजयशीलाजी म., सूरजपोल दादावाडी संघ से मुुनिराज श्री मुक्तिप्रभसागरजी म. एवं मुनिराज श्री मनीषप्रभसागरजी म. आदि विशाल संख्या में साधु-साध्वी भगवन्तों का गुरुवन्दना व महापुरुषों की जीवनी पर प्रवचन का आयोजन उदयपुर के सुरजपोल स्थित श्री जिनदत्तसुरि दादावाडी के जिनकुशलसूरि मणि आराधना भवन में हुआ।

Durg दुर्ग में चातुर्मास का उल्लासपूर्ण माहौल

Image
पूज्य गुरुदेव आचार्य भगवंत प्रज्ञापुरूष श्री जिनकान्तिसागरसूरीश्वरजी म.सा. के शिष्य पूज्य गुरुदेव खरतरगच्छाधिपति आचार्य भगवंत श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. पूज्य मुनि श्री मनितप्रभसागरजी म. पूज्य मुनि श्री समयप्रभसागरजी म. पूज्य मुनि श्री विरक्तप्रभसागरजी म. पूज्य मुनि श्री श्रेयांसप्रभसागरजी म. ठाणा 6 एवं पूजनीया आगम ज्योति प्रवर्तिनी श्री प्रमोदश्रीजी म.सा. की शिष्या पूजनीया माताजी म. श्री रतनमालाश्रीजी म. पूजनीया बहिन म. डाँ. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. पूजनीया साध्वी श्री प्रज्ञांजनाश्रीजी म. पूजनीया साध्वी श्री नीतिप्रज्ञाश्रीजी म. पूजनीया साध्वी श्री निष्ठांजनाश्रीजी म. ठाणा 5 की पावन निश्रा में छत्तीसगढ के दुर्ग नगर में चातुर्मास महोत्सव का जबरदस्त ठाट लगा है।

Michchhami Dukkadam

पर्वाधिराज पर्युषण की समाप्ति के परम पावन अवसर पर गत वर्ष जाने-अनजाने मन-वचन, काया के द्वारा आपको किसी भी प्रकार का आघात पहुँचा हो तो अपनी समस्त भूलों हेतु विनम्रतापूर्वक क्षमायाचना करते हुए आप सबको मिच्छा मि दुक्कडं. हम संकल्प लेते हैं कि आगामी वर्ष में हमारे वाणी-व्यवहार शुद्ध निष्पक्ष और आत्मीयपूर्ण रहे... जहाज मंदिर परिवार, राजस्थान

Paryushan at Palitana

Image
पालीताणा स्थित जिन हरि विहार संस्था में पर्युषण महापर्व के चतुर्थ दिन खरतर गच्छ के आचार्य जिनमणिप्रभसागरसूरिजी महाराज के शिष्य मुनि मयंकप्रभसागरजी महाराज के निर्देशन में हस्तिमलजी बोथरा परिवार बाडमेर वालों ने कल्पसूत्र को अर्पण कर सकल श्रीसंघ को शास्त्र श्रवण करवाने का लाभ लिया।

Paryushan Mahaparv @Durg

Image
दुर्ग ! पर्यूषण पर्व श्रावकों के लिए मोक्ष मार्ग पर जाने के पुरूषार्थ की आंतरिक तैयारी का समय है। जिस हृदय में दूसरों के प्रति क्षमा की नदी, सभी जीवों के प्रति समता का झरना और श्रद्धा की गंगा बहती हो उसकी आत्मा शुद्धत्व पाकर प्रतिक्रमण कर जीवन लक्ष्य मोक्ष की ओर अग्रसित होती है। धर्म सभा को संबोधित करते हुए आचार्यश्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी ने कहा कि मृत्यु के भय में मनुष्य कुछ भूल जाता है। मृत्यु का भय हमें पापकर्म से भी बचाता है। ऋषभ नगर, दुर्ग में श्री जैन श्वेताम्बर मूर्तिपूजक संघ और संघशास्ता चातुर्मास समिति द्वारा आयोजित चातुर्मास प्रवचन श्रृंखला में धर्मसभा को संबोधित करते हुए आचार्यश्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी ने कहा कि जीवन लक्ष्य, मोक्ष को पाने के लिए आत्मशुद्धि एवं प्रतिक्रमण के लिए पर्यूषण पर्व के शेष दिनों में भौतिक सुविधाओं को त्यागकर अनावश्यक भ्रमण, अनावश्यक वार्तालाप आदि से बचकर समय का सदुपयोग साधना में करें।