Mar 31, 2016

Khartar Gachchh Mahasammelan समारोह में खरतरगच्छाधिपति श्री जिनमणिप्रभसूरिजी महाराज ने सभा को संबोधित करते हुए कहा- परमात्मा महावीर ने संघ की महिमा का गान किया है। संघ को कल्पवृक्ष और कामधेनु की उपमा दी है। संघ की प्रगति के मूल में समर्पण छिपा है। जिस संघ के लोग अपने संघ और उसकी मर्यादा के प्रति प्रामाणिक रूप से समर्पित रहते हैं, वह संघ दिन दूनी और रात चौगुनी प्रगति करता है। आज हम परम सौभाग्यशाली हैं कि परमात्मा महावीर को 2500 वर्ष जितना लम्बा समय व्यतीत हो जाने पर भी उनकी वाणी हमारे पास है। जिनवाणी से बडी दूसरी कोई संपदा नहीं है। यह आचार्यों की परम्परा का उपकार है।

Mar 30, 2016

Khartar Gachchh Mahasammelan दि. 11 मार्च को गणाधीश श्री मणिप्रभसागरजी महाराज के निर्देशन में उपाध्याय आदि पदारोहण समारोह हुआ। जिसके अंतर्गत ने मुनि मनोज्ञसागरजी महाराज को उपाध्याय पद, मुनि मणिरत्नसागरजी महाराज को गणि पद भव्य समारोह पूर्वक विधि विधान के प्रदान किया गया। Shri Khartar Gachchh Mahasammelan, Shri Khartar Gachchh Sammelan, Palitana Mahasammelan, Palitana Sammelan, Palitana jain Mahasammelan, 3

Palitana jain Mahasammelan, Palitana Mahasammelan, Palitana Sammelan, Shri Khartar Gachchh Mahasammelan, Shri Khartar Gachchh Sammelan, 

दि. 11 मार्च को गणाधीश श्री मणिप्रभसागरजी महाराज के निर्देशन में उपाध्याय आदि पदारोहण समारोह हुआ। जिसके अंतर्गत ने मुनि मनोज्ञसागरजी महाराज को उपाध्याय पद, मुनि मणिरत्नसागरजी महाराज को गणि पद भव्य समारोह पूर्वक विधि विधान के प्रदान किया गया

Palitana jain Mahasammelan, Palitana Mahasammelan, Palitana Sammelan, Shri Khartar Gachchh Mahasammelan, Shri Khartar Gachchh Sammelan, 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan, Shri Khartar Gachchh Sammelan, Palitana Mahasammelan, Palitana Sammelan, Palitana jain Mahasammelan, 3

Mar 13, 2016

Palitana Sammelan खरतरगच्छ के इतिहास का स्वर्णिम प्रसंग बना महासम्मेलन­­­­... नमस्कार महामंत्र के तीसरे पद पर आरूढ़ होते हुये गणाधीश मणिप्रभसागर से आचार्य जिनमणिप्रभसूरि बने।... प्रतिनिधि सभा की घोषणा भी हुयी...

खरतरगच्छ के इतिहास का स्वर्णिम प्रसंग बना महासम्मेलन­­­­


श्री खरतरगच्छ महासम्मेलन का सफलतम आयोजन संपन्न
      विश्व विख्यात शाश्वत तीर्थ पालीताना में दि. 1 मार्च से 12 मार्च तक चल रहे अखिल भारतीय खरतरगच्छ महासम्मेलन की पूर्णता अंतिम दिन पूज्य खरतरगच्छाधिपति आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरिजी महाराज के आचार्य पदारोहण के साथ हुयी। खरतरगच्छ महासम्मेलन का अंतिम दिन खरतरगच्छ के इतिहास का स्वर्णिम दिवस है। इस दिन नमस्कार महामंत्र के तीसरे पद पर आरूढ़ होते हुये गणाधी मणिप्रभसागर से आचार्य जिनमणिप्रभसूरि बने। आचार्य पदारोहण समारोह का निर्देन आचार्य विजयराजयसूरिजी म.अचलगच्छाधिपति आचार्य गुणोदयसागरसूरिजी म. सहित अन्य कई आचार्य भगवंत की पावन निश्रा में हुआ। और लगभग 600 साधु साध्वी भगवंतों ने आचार्य पदवी समारोह में अपनी उपस्थिति देकर जैन समाज में एकता की मिशाल कायम की।

इससे पूर्व दि. 11 मार्च को गणाधीश श्री मणिप्रभसागरजी महाराज के निर्देशन में उपाध्याय आदि पदारोहण समारोह हुआ। जिसके अंतर्गत ने मुनि मनोज्ञसागरजी महाराज को उपाध्याय पद, मुनि मणिरत्नसागरजी महाराज को गणि पद, साध्वी दिव्यप्रभाश्रीजी को महत्तरा पद, साध्वी शशिप्रभाश्रीजी को प्रवर्तिनी पद और साध्वी सुलोचनाश्रीजी व सुर्यप्रभाश्रीजी को गणिनी पद भव्य समारोह पूर्वक विधि विधान के प्रदान किया गया। जिसमें गच्छ के सेंकडों की संख्या में साधू साध्वियों की हर्षित उपस्थिति रही।
आचार्य पदवी प्रदाता विजयराजयसूरिजी म. ने अपने उद्बोधन में कहा कि भारत भर की विशाल जनमेदिनी सहित विभिन्न आचार्य, उपाध्याय, साधु, साध्वी का पधारना यह खरतरगच्छ की एकता के साथ जैन एकता का भी नया इतिहास है। इस अवसर पर भारत भर के समस्त श्री खरतरगच्छ संघों के पदाधिकारीयों, ट्रस्टियों, अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद् की सभी शाखाओं के पदाधिकारियों सहित हजारों कार्यकर्ताओं व विशिष्ट श्रावक-श्राविकाओं ने भाग लेकर गच्छ व समुदाय के प्रति अपनी आस्था प्रकट की।
इस महत्वपूर्ण व दूरगामी परिणाम के लिये अखिल भारतीय खरतरगच्छ महासम्मेलन आयोजन समिति ने दे भर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए आवास की सुन्दर व्यवस्था तीर्थ की लगभग विभिन्न 100 धर्मशालाओं में व्यवस्थित तरीके से की गई। दोनों समय के भोजन की व्यवस्था हेतु एक विशाल भोजन मंडप बनाया गया जहां एक साथ 2500 लोग भोजन कर सकते थे। भारत भर से लगभग 20,000 से अधिक लोगों ने इस भव्य समारोह में भाग लिया। सभी आगंतुकों ने सम्मेलन के आयोजन व व्यवस्था की मुक्त कंठ से सराहना की।
साधु साध्वी सम्मेलन दि. 1 मार्च से 9 मार्च तक माधवलाल धर्मशाला स्थित खरतरगच्छ सभागार में आयोजित हुआ। जिसमें देव गुरु को वंदन कर गणनायक सुखसागरजी म. की प्रार्थना व सम्मेलन गीतिका के सामुहिक संगान से सम्मेलन का प्रारंभ किया जाता था। सभा में सभी साधु साध्वी उपस्थित रहकर गच्छ व समुदाय की प्रगति, कि्रयाओं में एकरूपता, समाचारी के विवरणों की शास्त्र पाठ के आधार पर चर्चा कर सर्वसहमति से निर्णय लिये गये। विगत 60 वर्षों के बाद हुये इस आयोजन ने संपूर्ण गच्छ के लिये ऐतिहासिक उपलब्धि एवं गच्छ एकता और विकास का अनूठा उदहारण पे किया।
समारोह में खरतरगच्छाधिपति श्री जिनमणिप्रभसागरसूरिजी महाराज ने सभा को संबोधित करते हुए कहा- परमात्मा महावीर ने संघ की महिमा का गान किया है। संघ को कल्पवृक्ष और कामधेनु की उपमा दी है। संघ की प्रगति के मूल में समर्पण छिपा है। जिस संघ के लोग अपने संघ और उसकी मर्यादा के प्रति प्रामाणिक रूप से समर्पित रहते हैं, वह संघ दिन दूनी और रात चौगुनी प्रगति करता है। आज हम परम सौभाग्यशाली हैं कि परमात्मा महावीर को 2500 वर्ष जितना लम्बा समय व्यतीत हो जाने पर भी उनकी वाणी हमारे पास है। जिनवाणी से बडी दूसरी कोई संपदा नहीं है। यह आचार्यों की परम्परा का उपकार है।
उपाध्याय श्री मनोज्ञसागरजी म. गणिवर्य श्री मणिरत्नसागरजी म. ने अपने उद्बोधन में समुदाय की एकता की आवश्यकता पर जोर दिया। साथ ही महत्तरा दिव्यप्रभाश्रीजी म., प्रवर्तिनी शशिप्रभाश्रीजी म., गच्छ-गणिनी सुलोचनाश्रीजी म., गच्छ-गणिनी सूर्यप्रभाश्रीजी म., बहिन म. साध्वी विद्युत्प्रभाश्रीजी म., साध्वी विमलप्रभाश्रीजी म., साध्वी कल्पलताश्रीजी म., साध्वी विद्युत्प्रभाश्रीजी म., साध्वी लक्ष्यपूर्णाश्रीजी म., साध्वी संघमित्राश्रीजी म., साध्वी स्नेहयशाश्रीजी म. आदि सभी ने कहा कि पद की जिम्मेदारी और व्यवस्था, समुदाय की उन्नति के लक्ष्य से होनी चाहिये। सभी पूजनीयों का यह निश्चय रहा कि खरतरगच्छ की सुविहित परम्परा में साधु साध्वी सम्मेलन एक निर्णायक व सार्थक गतिविधि है। सम्मेलन का निर्णय गच्छ के लिये अंतिम है। नौ दिनों तक उभय समय चले सम्मेलन में साधु साध्वी मंडल ने अनेक प्रस्तावों पर स्वीकृति प्रदान की।
दि. 10 मार्च को प्रात: जिनहरि विहार धर्मशाला से शोभायात्रा का आयोजन किया गया। जिसमें आचार्य विजयराजयशसूरिजी म., गणाधीश मणिप्रभसागरजी म., उपाध्याय भगवंत व मुनियों के समुह सहित तीर्थ में बिराजित अनेक गुरुभगवंतों ने शोभायात्रा व समारोह में अपना सानिध्य प्रदान किया। शोभायात्रा में हाथी, घोडे़, बेंड सहित अनेक झांकियों से युक्त था, जो तलेटी रोड पर जिनशासन और खरतरगच्छ का जय-जयकार करता हुआ गिरिराज तलहटी पर पहुंचकर गिरिराज की आराधना में संलग्न हुआ।
दोपहर में सुखसागर नगर के खचाखच भरे पांडाल में प्रारंभ में वरीष्ट सदस्यों ने दीप प्रज्वलन कर देव गुरु वंदन कर सम्मेलन का विधिवत् प्रारंभ किया। जिसमें सर्वप्रथम आचार्य विजयराजयसूरिजी म. ने मंगलाचरण श्लोक का गान कर सम्मेलन व पदारोहण की शुभकामना दी। समिति के चेयरमेन श्री मोहनचंद ढढा, प्राणीमित्र श्री कुमारपाल भाई ने सम्मेलन की आवश्यकता पर बल देते हुये सभी का स्वागत किया।
पूज्य गणाधीश ने सभा को संबोधित करते हुये कहा कि जैन धर्म में चतुर्विध संघ का अनुठा महत्व है। जिसमें साधु साध्वी श्रावक और श्राविका का परिगणन किया गया है। जिस प्रकार रथ अपने चारों पहियों के साथ ही सुरक्षित व गतिमान है वैसे ही धर्म भी इन चार संघों से सुरक्षित व पल्लवित है। प्रभु महावीर भी देना देने से पूर्व संघ को नमस्कार करते थे। उसी शिष्ट परंपरा को मान्य कर आज भी संघ का उदात्त प्रभाव देखा जा रहा है। जिनवल्लभसूरि के संघपट्टक ग्रंथ व सामाचारी शतक प्रकरण का आधार देकर कहा कि अनुशासन के बिना संघ की प्रगति नहीं हो सकती। लगभग 60 वर्षों के बाद में होने वाले इस सम्मेलन को सबको मिल कर पूर्ण रूप से सार्थक करना है। वर्षों बाद इतनी बडी संख्या में साधु साध्वी एकत्र हुए हैं। हमें मिल कर मंथन करना है कि शासन व गच्छ के कार्यों को आगे बढाते हुए हम अपनी आत्मा का कल्याण कैसे करें! इसके लिये हमें अपनी नियमावली बनानी है। संपूर्ण देश को भारतीय संस्कृति की प्राचीन परम्पराओं व संस्कारों से अवगत कराते हुए उनकी प्रतिष्ठा करने का बीडा उठाना है। पूज्य गुरुदेवश्री ने साधु साध्वी सम्मेलन में लिये गये विभिन्न निर्णयों की घोषणा करते हुये कहा कि ये सभी नियम समुदाय के समस्त साधु साध्वियों पर लागु किये गये है।
इस अवसर पर मुनि मनितप्रभसागरजी म. द्वारा लिखित साधना का ऐश्वर्य चेतना का माधुर्यपुस्तक, साध्वी सौम्यगुणाश्रीजी म. द्वारा शोध से परिपूर्ण 23 पुस्तकों का विमोचन कुमारपाल भाई सहित समारोह समिति के पदाधिकारियों के हाथों किया गया।
श्रावक-श्राविका सम्मेलन के सत्र में खरतरगच्छ संघों के प्रतिनिधियों ने समाज कल्याण, धर्म उन्नति, गच्छ अभिवृद्धि सहित वर्तमान समय में चल रही विसंगतियों को खत्म करने हेतु अपने विविध सुझाव दिये। विशेष सभा में श्रावकों के प्रश्नों का प्रत्युत्तर गणाधीश भगवंत ने देकर सभी जिज्ञासाओं का शास्त्रीय समाधान प्रदान किया। सुझावों में परिवारो में होने वाले सभी समारोहों में रात्रि भोजन बंद करने, बच्चों में जैन संस्कार हेतु पाठ्यक्रम एवं धार्मिक शिक्षा पर जोर, साधु साध्वी की वैयावच्च, दादावाडियों के सरक्षण, स्वाध्याय शिविरों पर जोर, संघ - युवा परिषद् - महिला परिषद् - बालिका परिषद् के साथ मिलकर गच्छ को मजबूत बनाना, समर्पण की भावना से हर कार्य करना आदि महत्वपूर्ण सुझाव दिये। इन सुझावों के आने पर लोगों ने हर्ष ध्वनि से दादा गुरुदेव का जयकारा बोला।
इस कार्यक्रम को पारस चैनल पर सीधा प्रसारित किया गया जिसे लाखों लोगों ने अपने घर बैठे देखकर अपने मन में प्रमोद भावों का अनुभव किया एवं संचार सुविधाओं द्वारा मंगल कामना प्रेषित की।
खरतरगच्छ की दिव्यता, भव्यता, ऐतिहासिकता एवं प्रखरता का दिग्दर्शन कर अखिल भारतीय जैन श्री संघ अवाक् रह गया। इस समारोह से हजार वर्ष प्राचीन यह गच्छ परम प्रभावक सहस्रांशु की भांति जाज्वल्यमान हुआ। इस आयोजन से पूरे भारत में खरतरगच्छ की महानता का शंखनाद हुआ।
सम्मेलन के मध्य आचार्य जिनमणिप्रभसूरिजी म. आदि का आगामी चातुर्मास दुर्ग में होना तय हुआ। उपाध्याय मनोज्ञसागरजी म. का चातुर्मास बालोतरा में, महत्तरा दिव्यप्रभाश्रीजी म. का चातुर्मास पालीताणा में, प्रवर्तिनी शशिप्रभाश्रीजी म. का चातुर्मास बाडमेर, गणिनी सुलोचनाश्रीजी म. का चातुर्मास इचलकरंजी में, गणिनी सूर्यप्रभाश्रीजी म. का चातुर्मास सूरत में, साध्वी विनोदश्रीजी म. का चातुर्मास पाली में, साध्वी कल्पलताश्रीजी म. का चातुर्मास शंखेश्वर में होना तय किया गया। इस समारोह की सफलता का श्रेय आयोजन समिति एवं सकल खरतरगच्छ श्री संघों को जाता है। अखिल भारतीय खरतरगच्छ युवा परिषद् की समस्त शाखाओं का योगदान भी सराहनीय रहा।

प्रतिनिधि सभा की घोषणा
पूज्य गुरुदेव आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरिजी म. ने अपने उद्बोधन में फरमाया- अखिल भारतीय स्तर पर खरतरगच्छ की एक प्रतिनिधि संस्था होनी चाहिये जिसमें भारत के समस्त खरतरगच्छ संघों का उचित प्रतिनिधित्व हो, जिसमें व्यक्तिगत सदस्यता न होकर संघों की सदस्यता हो।
पूज्यश्री ने इस हेतु श्री अखिल भारतीय जैन श्वे. खरतरगच्छ प्रतिनिधि सभा की घोषणा की। तथा इसके विधान, प्रारूप व संघों का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित करने के लिये दो व्यक्तियों के नामों की घोषणा की। श्री मोहनचंदजी ढड्ढा चेन्नई इस संस्था के संयोजक तथा श्री मोतीचंदजी झाबक रायपुर को उप संयोजक बनाया गया। ये शीघ्र ही आगे की कार्यवाही कर विधि विधान के साथ इस प्रतिनिधि सभा का गठन करेंगे।
प्रेषक
गौतम संकलेचा, चैन्नई
094440 45407

Mar 10, 2016

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan, Shri Khartar Gachchh Sammelan, Palitana Mahasammelan, Palitana Sammelan, Palitana jain Mahasammelan,

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 
Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 
Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 


Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 
Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 


Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Shri Khartar Gachchh Mahasammelan 

Mar 2, 2016

Palitana Sammelan 2016 मुनि मनोज्ञसागरजी म. का उपाध्याय पदारोहण 11 मार्च को

Palitana Sammelan
पालीताणा स्थित जिनहरि विहार धर्मशाला में चल रहे अखिल भारतीय खरतरगच्छ साधु-साध्वी सम्मेलन के दूसरे दिन बुधवार को णाधीश मणिप्रभसागरजी म. ने अध्यक्षता करते हुये आदेश दिया कि आने वाले 11 मार्च को मुनि मनोज्ञसागर जी म. को उपाध्याय पद, मुनि मणिरत्नसागर जी म. को गणि पद, साध्वी दिव्यप्रभाश्रीजी म. को महत्तरा पद और साध्वी शशिप्रभाश्रीजी म. को प्रवर्तिनी पद विधि-विधान के साथ प्रदान किया जायेगा।
मुनि मेहुलप्रभसागरजी म. ने बताया कि आज प्रात: 9 बजे जिनहरि विहार धर्मशाला से गणाधीश एवं समस्त साधु साध्वी सहित अ.भा. खरतरगच्छ महासम्मेलन के वरिष्ट पदाधिकारी, सदस्य एवं देश भर के खरतरगच्छ संघों के प्रतिनिधियों ने जयजयकार के साथ प्रस्थान कर सम्मेलन सभागृह में प्रवेश किया।
सभा के प्रारंभ में गुरु परंपरा को नमस्कार कर गणाधीश मणिप्रभसागरजी म. ने कहा कि हमारे समुदाय में योग्य साधु साध्वी को विशेष जिम्मेदारी दी जानी चाहिये। जिससे केवल समुदाय की ही नहीं अपितु धर्म की भी प्रगति हो। इस हेतु उपाध्याय आदि पद की घोषणा करते हुये पदारोहण उत्सव 11 मार्च को आयोजित करने का आदेश दिया। गुरुदेव की इस घोषणा के साथ ही सभा मंडप में हर्ष की लहर दौड गयी एवं जयकारे की गूंज से घोषणा का स्वागत किया गया।
मुनि मनोज्ञसागरजी म. एवं मुनि मणिरत्नसागरजी म. ने अपने उद्बोधन में गुरु आज्ञा में अपनी विनम्र स्वीकृति दी। इस अवसर पर बाबुलाल लुणिया, भंवरलाल छाजेड, गौतम संकलेचा, रमेश गोकलानी, मनीष नाहटा, पुरुषोतम सेठिया, भेरु लुणिया, रतनलाल बोहरा, पदमचंद चोधरी, अ’ाोक भंसाली, गौतम मालु, प्रणय श्रीमाल आदि अनेक लोग उपस्थित थे।
प्रेषक- बाबुलाल लुणिया
महामंत्री 
जिन हरि विहार, पालीताणा

jahaj mandir, maniprabh, mehulprabh, kushalvatika, JAHAJMANDIR, MEHUL PRABH, kushal vatika, mayankprabh, Pratikaman, Aaradhna, Yachna, Upvaas, Samayik, Navkar, Jap, Paryushan, MahaParv, jahajmandir, mehulprabh, maniprabh, mayankprabh, kushalvatika, gajmandir, kantisagar, harisagar, khartargacchha, jain dharma, jain, hindu, temple, jain temple, jain site, jain guru, jain sadhu, sadhu, sadhvi, guruji, tapasvi, aadinath, palitana, sammetshikhar, pawapuri, girnar, swetamber, shwetamber, JAHAJMANDIR, www.jahajmandir.com, www.jahajmandir.blogspot.in,

Mar 1, 2016

Palitana Sammelan 12 मार्च को होगा आचार्य पदारोहण

पालीताणा स्थित जिनहरि विहार धर्मशाला में आज दि. 1 मार्च से प्रारंभ हुये अखिल भारतीय खरतरगच्छ महासम्मेलन की सम्पूर्णता ऐतिहासिक आचार्य पदारोहण समारोह से होगी।

आज प्रात: सम्मेलन के प्रारंभ में देव गुरु को वंदन कर सम्मेलन का प्रारंभ किया गया। सभा में सभी साधु साध्वी सहित अ.भा. खरतरगच्छ महासम्मेलन के वरिष्ट पदाधिकारी, सदस्य एवं देश भर के खरतरगच्छ संघों के प्रतिनिधियों ने गणाधीश मणिप्रभसागरजी महाराज को आचार्य पद स्वीकार करने के लिए विनती अर्ज की। गणाधीश महाराज ने सभी की विनती को मान देते हुये अपनी विनम्र स्वीकृति दी।

संघ प्रतिनिधियों ने विशेष रूप से आग्रह करते हुये कहा कि इतनी संख्या में साधू साध्वियों एवं श्रावक श्राविकाओं की उपस्थिति और सिद्धाचल की पावन धरा में आचार्य एवं अन्य पदों का पदारोहण एक ऐतिहासिक उपलब्धि एवं गच्छ एकता और विकास का अनूठा उदहारण पेश करेगा। गुरुदेव की इस घोषणा के साथ ही सभा मंडप में हर्ष की लहर दौड गयी एवं जयकारे की गूंज से घोषणा का स्वागत किया गया।

मुनि मनोज्ञसागरजी म. एवं मुनि मणिरत्न सागर जी म. ने अपने उद्बोधन में समुदाय की एकता की आवश्यकता पर जोर दिया।