Featured Post

Shri JINManiprabhSURIji ms. खरतरगच्छाधिपतिश्री जहाज मंदिर मांडवला में विराज रहे है।

Image
पूज्य गुरुदेव गच्छाधिपति आचार्य प्रवर श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. एवं पूज्य आचार्य श्री जिनमनोज्ञसूरीजी महाराज आदि ठाणा जहाज मंदिर मांडवला में विराज रहे है। आराधना साधना एवं स्वाध्याय सुंदर रूप से गतिमान है। दोपहर में तत्त्वार्थसूत्र की वाचना चल रही है। जिसका फेसबुक पर लाइव प्रसारण एवं यूट्यूब (जहाज मंदिर चेनल) पे वीडियो दी जा रही है । प्रेषक मुकेश प्रजापत फोन- 9825105823

इन्दौर से श्री अवन्ति तीर्थ का छह री पालित संघ का आयोजन

इन्दौर 30 जनवरी। पूज्य गुरुदेव खरतरगच्छाध्ािपति आचार्य श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी म.सा. आदि ठाणा की पावन निश्रा में इन्दौर नगर से श्री अवन्ति पार्श्वनाथ तीर्थ के लिये छह री पालित संघ का आयोजन संपन्न हुआ। संघ आयोजन इन्दौर निवासी श्रीमती मदनबाई की स्मृति में श्री मदनलालजी पुत्र नवीनकुमारजी जयन्तीलालजी अनिलकुमारजी सुनीलकुमारजी बैद परिवार की ओर से किया गया।
ता. 29 जनवरी 2019 को संघ का प्रस्थान संघपति परिवार के घर से हुआ। प्रस्थान से पूर्व स्नात्र पूजा, नवग्रह, दशदिक्पाल आदि विविध्ा पूजाऐं पढाई गई। संघपति श्री प्रकाशजी मालू परिवार ने संघवी बैद परिवार को तिलक कर नारियल अर्पण किया।
बाजते गाजते संघ रामबाग दादावाडी पहुॅंचा। दादावाडी से ता. 30 को प्रातः प्रस्थित हुआ। ता. 1 फरवरी को संघपति बैद परिवार की ओर से सभी यात्रियों, कार्यकर्त्ताओं का बहुमान किया गया।
ता. 2 फरवरी को संघ अवन्ति तीर्थ पहुॅंचा। भव्य प्रवेश संपन्न हुआ। अवन्ति पार्श्वनाथ परमात्मा के दरबार में संघपति मालारोपण विध्ाान किया गया।
श्री मदनलालजी बैद को माला पहिनाने का लाभ श्री अशोककुमारजी मिश्रीलालजी भंसाली जलगांव जामोद वालों ने लिया। सभी संघपतियों को तीर्थ माल, संघपति माला ध्ाारण करवाई गई। संघ में पूज्य आचार्यश्री आदि ठाणा 6, पूजनीया गणिनी वर्या श्री सुलोचनाश्रीजी म. आदि ठाणा 7, पूजनीया गणिनी वर्या श्री सूर्यप्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 15, पूजनीया बहिन म. डॉ. श्री विद्युत्प्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 3, पूजनीया साध्वी श्री विमलप्रभाश्रीजी म. आदि ठाणा 7, पूजनीया साध्वी श्री सुप्रज्ञाश्रीजी म. आदि ठाणा 5, पूजनीया साध्वी श्री संघमित्राश्रीजी म. आदि ठाणा 3 आदि साध्ाु साध्वी मंडल की विशाल संख्या में सानिध्यता प्राप्त हुई। संघवण श्रीमती मीनादेवी अनिलकुमारजी बैद ने सभी का आभार माना। गुरुदेवश्री के प्रति अपनी कृतज्ञता ज्ञापित की।
संघ की व्यवस्था को व्यवस्थित रूप से चलाने के लिये संघपति श्री अनिलकुमारजी बैद, उनकी ध्ार्मपत्नी सौ. मीनादेवी बैद, पुत्र श्री श्रेयांसकुमार पुत्री सुश्री लीची बैद का विशेष पुरुषार्थ रहा। संघ की सुन्दर व्यवस्था राहुल इवेंट द्वारा की गई। जिसकी सराहना सभी यात्रियों ने मुक्त कण्ठ से की। राहुल इवेण्ट के श्री राहुल जैन, जयेशभाई, मयंकभाई, अक्षयभाई आदि ने बहुत मेहनत की। इस संघ में इन्दौर, जयपुर, अक्कलकुआ, मुंबई, भायंदर, खापर, तलोदा, वाण्याविहिर, अमलनेर, शहादा, नंदुरबार, अहमदाबाद, मनावर आदि कई गांवों के यात्री सम्मिलित हुए।

Comments

Popular posts from this blog

Jain Religion answer

VARSHITAP वर्षीतप का पारणा इक्षुरस से ही क्यों ... ???